MuslimClips MuslimWebmasters MuslimLyrics MuslimEcards MuslimRecipe MuslimPixelAds Facebook4Muslims
MyMuslimPage.com - Connecting Muslims & their friends

Home| Customize Your Profile| Users Online| Shop | Join Us| Login | Help |


Bilal

Report User
"𝕭𝖎𝖑𝖆𝖑 𝕬𝖍𝖒𝖆𝖉 ☪️"
Male
34 years old
New Delhi, DE
India -
Last Login: December 01 2018

My Gallery  

My URL: http://www.mymuslimpage.com/17337

   Contacting Bilal

       Bilal 's Interests
Books Surah Rahman | سورة الرحمن بِسْمِ اللَّهِ الرَّحْمَنِ الرَّحِيم In the name of God, the Most Gracious, the Most Merciful 1 الرَّحْمَـٰنُ (ALLAH) Most Gracious! 2 عَلَّمَ الْقُرْآنَ It is He Who has taught the Quran. 3 خَلَقَ الْإِنسَانَ He has created man: 4 عَلَّمَهُ الْبَيَانَ He has taught him speech (and intelligence). 5 الشَّمْسُ وَالْقَمَرُ بِحُسْبَانٍ The sun and the moon follow courses (exactly) computed; 6 وَالنَّجْمُ وَالشَّجَرُ يَسْجُدَانِ And the herbs and the trees both (alike) prostrate in adoration. 7 وَالسَّمَاءَ رَفَعَهَا وَوَضَعَ الْمِيزَانَ And the Firmament has He raised high, and He has set up the Balance (of Justice), 8 أَلَّا تَطْغَوْا فِي الْمِيزَانِ In order that ye may not transgress (due) balance. 9 وَأَقِيمُوا الْوَزْنَ بِالْقِسْطِ وَلَا تُخْسِرُوا الْمِيزَانَ So establish weight with justice and fall not short in the balance. 10 وَالْأَرْضَ وَضَعَهَا لِلْأَنَامِ It is He Who has spread out the earth for (His) creatures: 11 فِيهَا فَاكِهَةٌ وَالنَّخْلُ ذَاتُ الْأَكْمَامِ Therein is fruit and date-palms, producing spathes (enclosing dates); 12 وَالْحَبُّ ذُو الْعَصْفِ وَالرَّيْحَانُ Also corn, with (its) leaves and stalk for fodder, and sweet-smelling plants. 13 فَبِأَيِّ آلَاءِ رَبِّكُمَا تُكَذِّبَانِ Then which of the favours of your Lord will ye deny? 14 خَلَقَ الْإِنسَانَ مِن صَلْصَالٍ كَالْفَخَّارِ He created man from sounding clay like unto pottery, 15 وَخَلَقَ الْجَانَّ مِن مَّارِجٍ مِّن نَّارٍ And He created Jinns from fire free of smoke: 16 فَبِأَيِّ آلَاءِ رَبِّكُمَا تُكَذِّبَانِ Then which of the favours of your Lord will ye deny? 17 رَبُّ الْمَشْرِقَيْنِ وَرَبُّ الْمَغْرِبَيْنِ (He is) Lord of the two Easts and Lord of the two Wests: 18 فَبِأَيِّ آلَاءِ رَبِّكُمَا تُكَذِّبَانِ Then which of the favours of your Lord will ye deny? 19 مَرَجَ الْبَحْرَيْنِ يَلْتَقِيَانِ He has let free the two bodies of flowing water, meeting together: 20 بَيْنَهُمَا بَرْزَخٌ لَّا يَبْغِيَانِ Between them is a Barrier which they do not transgress: 21 فَبِأَيِّ آلَاءِ رَبِّكُمَا تُكَذِّبَانِ Then which of the favours of your Lord will ye deny? 22 يَخْرُجُ مِنْهُمَا اللُّؤْلُؤُ وَالْمَرْجَانُ Out of them come Pearls and Coral: 23 فَبِأَيِّ آلَاءِ رَبِّكُمَا تُكَذِّبَانِ Then which of the favours of your Lord will ye deny? 24 وَلَهُ الْجَوَارِ الْمُنشَآتُ فِي الْبَحْرِ كَالْأَعْلَامِ And His are the Ships sailing smoothly through the seas, lofty as mountains: 25 فَبِأَيِّ آلَاءِ رَبِّكُمَا تُكَذِّبَانِ Then which of the favours of your Lord will ye deny? 26 كُلُّ مَنْ عَلَيْهَا فَانٍ All that is on earth will perish: 27 وَيَبْقَىٰ وَجْهُ رَبِّكَ ذُو الْجَلَالِ وَالْإِكْرَامِ But will abide (for ever) the Face of thy Lord,- full of Majesty, Bounty and Honour. 28 فَبِأَيِّ آلَاءِ رَبِّكُمَا تُكَذِّبَانِ Then which of the favours of your Lord will ye deny? 29 يَسْأَلُهُ مَن فِي السَّمَاوَاتِ وَالْأَرْضِ ۚ كُلَّ يَوْمٍ هُوَ فِي شَأْنٍ Of Him seeks (its need) every creature in the heavens and on earth: every day in (new) Splendour doth He (shine)! 30 فَبِأَيِّ آلَاءِ رَبِّكُمَا تُكَذِّبَانِ Then which of the favours of your Lord will ye deny? 31 سَنَفْرُغُ لَكُمْ أَيُّهَ الثَّقَلَانِ Soon shall We settle your affairs, O both ye worlds! 32 فَبِأَيِّ آلَاءِ رَبِّكُمَا تُكَذِّبَانِ Then which of the favours of your Lord will ye deny? 33 يَا مَعْشَرَ الْجِنِّ وَالْإِنسِ إِنِ اسْتَطَعْتُمْ أَن تَنفُذُوا مِنْ أَقْطَارِ السَّمَاوَاتِ وَالْأَرْضِ فَانفُذُوا ۚ لَا تَنفُذُونَ إِلَّا بِسُلْطَانٍ O ye assembly of Jinns and men! If it be ye can pass beyond the zones of the heavens and the earth, pass ye! not without authority shall ye be able to pass! 34 فَبِأَيِّ آلَاءِ رَبِّكُمَا تُكَذِّبَانِ Then which of the favours of your Lord will ye deny? 35 يُرْسَلُ عَلَيْكُمَا شُوَاظٌ مِّن نَّارٍ وَنُحَاسٌ فَلَا تَنتَصِرَانِ On you will be sent (O ye evil ones twain!) a flame of fire (to burn) and a smoke (to choke): no defence will ye have: 36 فَبِأَيِّ آلَاءِ رَبِّكُمَا تُكَذِّبَانِ Then which of the favours of your Lord will ye deny? 37 فَإِذَا انشَقَّتِ السَّمَاءُ فَكَانَتْ وَرْدَةً كَالدِّهَانِ When the sky is rent asunder, and it becomes red like ointment: 38 فَبِأَيِّ آلَاءِ رَبِّكُمَا تُكَذِّبَانِ Then which of the favours of your Lord will ye deny? 39 فَيَوْمَئِذٍ لَّا يُسْأَلُ عَن ذَنبِهِ إِنسٌ وَلَا جَانٌّ On that Day no question will be asked of man or Jinn as to his sin. 40 فَبِأَيِّ آلَاءِ رَبِّكُمَا تُكَذِّبَانِ Then which of the favours of your Lord will ye deny? 41 يُعْرَفُ الْمُجْرِمُونَ بِسِيمَاهُمْ فَيُؤْخَذُ بِالنَّوَاصِي وَالْأَقْدَامِ (For) the sinners will be known by their marks: and they will be seized by their forelocks and their feet. 42 فَبِأَيِّ آلَاءِ رَبِّكُمَا تُكَذِّبَانِ Then which of the favours of your Lord will ye deny? 43 هَـٰذِهِ جَهَنَّمُ الَّتِي يُكَذِّبُ بِهَا الْمُجْرِمُونَ This is the Hell which the Sinners deny: 44 يَطُوفُونَ بَيْنَهَا وَبَيْنَ حَمِيمٍ آنٍ In its midst and in the midst of boiling hot water will they wander round! 45 فَبِأَيِّ آلَاءِ رَبِّكُمَا تُكَذِّبَانِ Then which of the favours of your Lord will ye deny? 46 وَلِمَنْ خَافَ مَقَامَ رَبِّهِ جَنَّتَانِ But for such as fear the time when they will stand before (the Judgment Seat of) their Lord, there will be two Gardens- 47 فَبِأَيِّ آلَاءِ رَبِّكُمَا تُكَذِّبَانِ Then which of the favours of your Lord will ye deny?- 48 ذَوَاتَا أَفْنَانٍ Containing all kinds (of trees and delights);- 49 فَبِأَيِّ آلَاءِ رَبِّكُمَا تُكَذِّبَانِ Then which of the favours of your Lord will ye deny?- 50 فِيهِمَا عَيْنَانِ تَجْرِيَانِ In them (each) will be two Springs flowing (free); 51 فَبِأَيِّ آلَاءِ رَبِّكُمَا تُكَذِّبَانِ Then which of the favours of your Lord will ye deny?- 52 فِيهِمَا مِن كُلِّ فَاكِهَةٍ زَوْجَانِ In them will be Fruits of every kind, two and two. 53 فَبِأَيِّ آلَاءِ رَبِّكُمَا تُكَذِّبَانِ Then which of the favours of your Lord will ye deny? 54 مُتَّكِئِينَ عَلَىٰ فُرُشٍ بَطَائِنُهَا مِنْ إِسْتَبْرَقٍ ۚ وَجَنَى الْجَنَّتَيْنِ دَانٍ They will recline on Carpets, whose inner linings will be of rich brocade: the Fruit of the Gardens will be near (and easy of reach). 55 فَبِأَيِّ آلَاءِ رَبِّكُمَا تُكَذِّبَانِ Then which of the favours of your Lord will ye deny? 56 فِيهِنَّ قَاصِرَاتُ الطَّرْفِ لَمْ يَطْمِثْهُنَّ إِنسٌ قَبْلَهُمْ وَلَا جَانٌّ In them will be (Maidens), chaste, restraining their glances, whom no man or Jinn before them has touched;- 57 فَبِأَيِّ آلَاءِ رَبِّكُمَا تُكَذِّبَانِ Then which of the favours of your Lord will ye deny?- 58 كَأَنَّهُنَّ الْيَاقُوتُ وَالْمَرْجَانُ Like unto Rubies and coral. 59 فَبِأَيِّ آلَاءِ رَبِّكُمَا تُكَذِّبَانِ Then which of the favours of your Lord will ye deny? 60 هَلْ جَزَاءُ الْإِحْسَانِ إِلَّا الْإِحْسَانُ Is there any Reward for Good other than Good? 61 فَبِأَيِّ آلَاءِ رَبِّكُمَا تُكَذِّبَانِ Then which of the favours of your Lord will ye deny? 62 وَمِن دُونِهِمَا جَنَّتَانِ And besides these two, there are two other Gardens,- 63 فَبِأَيِّ آلَاءِ رَبِّكُمَا تُكَذِّبَانِ Then which of the favours of your Lord will ye deny?- 64 مُدْهَامَّتَانِ Dark-green in colour (from plentiful watering). 65 فَبِأَيِّ آلَاءِ رَبِّكُمَا تُكَذِّبَانِ Then which of the favours of your Lord will ye deny? 66 فِيهِمَا عَيْنَانِ نَضَّاخَتَانِ In them (each) will be two Springs pouring forth water in continuous abundance: 67 فَبِأَيِّ آلَاءِ رَبِّكُمَا تُكَذِّبَانِ Then which of the favours of your Lord will ye deny? 68 فِيهِمَا فَاكِهَةٌ وَنَخْلٌ وَرُمَّانٌ In them will be Fruits, and dates and pomegranates: 69 فَبِأَيِّ آلَاءِ رَبِّكُمَا تُكَذِّبَانِ Then which of the favours of your Lord will ye deny? 70 فِيهِنَّ خَيْرَاتٌ حِسَانٌ In them will be fair (Companions), good, beautiful;- 71 فَبِأَيِّ آلَاءِ رَبِّكُمَا تُكَذِّبَانِ Then which of the favours of your Lord will ye deny?- 72 حُورٌ مَّقْصُورَاتٌ فِي الْخِيَامِ Companions restrained (as to their glances), in (goodly) pavilions;- 73 فَبِأَيِّ آلَاءِ رَبِّكُمَا تُكَذِّبَانِ Then which of the favours of your Lord will ye deny?- 74 لَمْ يَطْمِثْهُنَّ إِنسٌ قَبْلَهُمْ وَلَا جَانٌّ Whom no man or Jinn before them has touched;- 75 فَبِأَيِّ آلَاءِ رَبِّكُمَا تُكَذِّبَانِ Then which of the favours of your Lord will ye deny?- 76 مُتَّكِئِينَ عَلَىٰ رَفْرَفٍ خُضْرٍ وَعَبْقَرِيٍّ حِسَانٍ Reclining on green Cushions and rich Carpets of beauty. 77 فَبِأَيِّ آلَاءِ رَبِّكُمَا تُكَذِّبَانِ Then which of the favours of your Lord will ye deny? 78 تَبَارَكَ اسْمُ رَبِّكَ ذِي الْجَلَالِ وَالْإِكْرَامِ Blessed be the name of thy Lord, full of Majesty, Bounty and Honour. ____________________________ 55 सूरए अर रहमान सूरए अर रहमान मक्का में नाजि़ल हुआ और इसमें अठहातर (78) आयतें हैं ख़ुदा के नाम (शुरू करता हूँ) जो बड़ा मेहरबान निहायत रहम वाला है बड़ा मेहरबान (ख़ुदा) (1) उसी ने क़ुरआन की तालीम फ़रमाई (2) उसी ने इन्सान को पैदा किया (3) उसी ने उनको (अपना मतलब) ब्यान करना सिखाया (4) सूरज और चाँद एक मुक़र्रर हिसाब से चल रहे हैं (5) और बूटियाँ बेलें, और दरख़्त (उसी को) सजदा करते हैं (6) और उसी ने आसमान बुलन्द किया और तराजू (इन्साफ़) को क़ायम किया (7) ताकि तुम लोग तराज़ू (से तौलने) में हद से तजाउज़ न करो (8) और ईन्साफ़ के साथ ठीक तौलो और तौल कम न करो (9) और उसी ने लोगों के नफे़ के लिए ज़मीन बनायी (10) कि उसमें मेवे और खजूर के दरख़्त हैं जिसके ख़ोशों में गि़लाफ़ होते हैं (11) और अनाज जिसके साथ भुस होता है और ख़ुशबूदार फूल (12) तो (ऐ गिरोह जिन व इन्स) तुम दोनों अपने परवरदिगार की कौन कौन सी नेअमतों को न मानोगे (13) उसी ने इन्सान को ठीकरे की तरह खन खनाती हुयी मिटटी से पैदा किया (14) और उसी ने जिन्नात को आग के शोले से पैदा किया (15) तो (ऐ गिरोह जिन व इन्स) तुम अपने परवरदिगार की कौन कौन सी नेअमतों से मुकरोगे (16) वही जाड़े गर्मी के दोनों मशरिको का मालिक है और दोनों मग़रिबों का (भी) मालिक है (17) तो (ऐ जिनों) और (आदमियों) तुम अपने परवरदिगार की किस किस नेअमत से इन्कार करोगे (18) उसी ने दरिया बहाए जो बाहम मिल जाते हैं (19) दो के दरम्यिान एक हद्दे फ़ासिल (आड़) है जिससे तजाउज़ नहीं कर सकते (20) तो (ऐ जिन व इन्स) तुम दोनों अपने परवरदिगार की किस किस नेअमत को झुठलाओगे (21) इन दोनों दरियाओं से मोती और मूँगे निकलते हैं (22) (तो जिन व इन्स) तुम दोनों अपने परवरदिगार की कौन कौन सी नेअमत को न मानोगे (23) और जहाज़ जो दरिया में पहाड़ों की तरह ऊँचे खड़े रहते हैं उसी के हैं (24) तो (ऐ जिन व इन्स) तुम अपने परवरदिगार की किस किस नेअमत को झुठलाओगे (25) जो (मख़लूक) ज़मीन पर है सब फ़ना होने वाली है (26) और सिर्फ तुम्हारे परवरदिगार की ज़ात जो अज़मत और करामत वाली है बाक़ी रहेगी (27) तो तुम दोनों अपने मालिक की किस किस नेअमत से इन्कार करोगे (28) और जितने लोग सारे आसमान व ज़मीन में हैं (सब) उसी से माँगते हैं वह हर रोज़ (हर वक़्त) मख़लूक के एक न एक काम में है (29) तो तुम दोनों अपने सरपरस्त की कौन कौन सी नेअमत से मुकरोगे (30) (ऐ दोनों गिरोहों) हम अनक़रीब ही तुम्हारी तरफ़ मुतावज्जे होंगे (31) तो तुम दोनों अपने पालने वाले की किस किस नेअमत को न मानोगे (32) ऐ गिरोह जिन व इन्स अगर तुममें क़ुदरत है कि आसमानों और ज़मीन के किनारों से (होकर कहीं) निकल (कर मौत या अज़ाब से भाग) सको तो निकल जाओ (मगर) तुम तो बग़ैर क़ूवत और ग़लबे के निकल ही नहीं सकते (हालाँकि तुममें न क़ूवत है और न ही ग़लबा) (33) तो तुम अपने परवरदिगार की किस किस नेअमत को झुठलाओगे (34) (गुनाहगार जिनों और आदमियों जहन्नुम में) तुम दोनो पर आग का सब्ज़ शोला और सियाह धुआँ छोड़ दिया जाएगा तो तुम दोनों (किस तरह) रोक नहीं सकोगे (35) फिर तुम दोनों अपने परवरदिगार की किस किस नेअमत से इन्कार करोगे (36) फिर जब आसमान फट कर (क़यामत में) तेल की तरह लाल हो जाऐगा (37) तो तुम दोनों अपने परवरदिगार की किस किस नेअमत से मुकरोगे (38) तो उस दिन न तो किसी इन्सान से उसके गुनाह के बारे में पूछा जाएगा न किसी जिन से (39) तो तुम दोनों अपने मालिक की किस किस नेअमत को न मानोगे (40) गुनाहगार लोग तो अपने चेहरों ही से पहचान लिए जाएँगे तो पेशानी के पटटे और पाँव पकड़े (जहन्नुम में डाल दिये जाएँगे) (41) आखि़र तुम दोनों अपने परवरदिगार की किस किस नेअमत से इन्कार करोगे (42) (फिर उनसे कहा जाएगा) यही वह जहन्नुम है जिसे गुनाहगार लोग झुठलाया करते थे (43) ये लोग दोज़ख़ और हद दरजा खौलते हुए पानी के दरमियान (बेक़रार दौड़ते) चक्कर लगाते फिरेंगे (44) तो तुम दोनों अपने परवरदिगार की किस किस नेअमत को न मानोगे (45) और जो शख़्स अपने परवरदिगार के सामने खड़े होने से डरता रहा उसके लिए दो दो बाग़ हैं (46) तो तुम दोनों अपने परवरदिगार की कौन कौन सी नेअमत से इन्कार करोगे (47) दोनों बाग़ (दरख़्तों की) टहनियों से हरे भरे (मेवों से लदे) हुए (48) फिर दोनों अपने सरपरस्त की किस किस नेअमतों को झुठलाओगे (49) इन दोनों में दो चश्में जारी होंगे (50) तो तुम दोनों अपने परवरदिगार की किस किस नेअमत से मुकरोगे (51) इन दोनों बाग़ों में सब मेवे दो दो किस्म के होंगे (52) तुम दोनों अपने परवरदिगार की किस किस नेअमत से इन्कार करोगे (53) यह लोग उन फर्शों पर जिनके असतर अतलस के होंगे तकिये लगाकर बैठे होंगे तो दोनों बाग़ों के मेवे (इस क़दर) क़रीब होंगे (कि अगर चाहे तो लगे हुए खालें) (54) तो तुम दोनों अपने मालिक की किस किस नेअमत को न मानोगे (55) इसमें (पाक दामन ग़ैर की तरफ आँख उठा कर न देखने वाली औरतें होंगी जिनको उन से पहले न किसी इन्सान ने हाथ लगाया होगा) और जिन ने (56) तो तुम दोनों अपने परवरदिगार की किन किन नेअमतों को झुठलाओगे (57) (ऐसी हसीन) गोया वह (मुजस्सिम) याक़ूत व मूँगे हैं (58) तो तुम दोनों अपने परवरदिगार की किन किन नेअमतों से मुकरोगे (59) भला नेकी का बदला नेकी के सिवा कुछ और भी है (60) फिर तुम दोनों अपने मालिक की किस किस नेअमत को झुठलाओगे (61) उन दोनों बाग़ों के अलावा दो बाग़ और हैं (62) तो तुम दोनों अपने पालने वाले की किस किस नेअमत से इन्कार करोगे (63) दोनों निहायत गहरे सब्ज़ व शादाब (64) तो तुम दोनों अपने सरपरस्त की किन किन नेअमतों को न मानोगे (65) उन दोनों बाग़ों में दो चश्में जोश मारते होंगे (66) तो तुम दोनों अपने परवरदिगार की किस किस नेअमत से मुकरोगे (67) उन दोनों में मेवें हैं खुरमें और अनार (68) तो तुम दोनों अपने मालिक की किन किन नेअमतों को झुठलाओगे (69) उन बाग़ों में ख़ुश ख़ुल्क और ख़ूबसूरत औरतें होंगी (70) तो तुम दोनों अपने मालिक की किन किन नेअमतों को झुठलाओगे (71) वह हूरें हैं जो ख़ेमों में छुपी बैठी हैं (72) फिर तुम दोनों अपने परवरदिगार की कौन कौन सी नेअमत से इन्कार करोगे (73) उनसे पहले उनको किसी इन्सान ने उनको छुआ तक नहीं और न जिन ने (74) फिर तुम दोनों अपने मालिक की किस किस नेअमत से मुकरोगे (75) ये लोग सब्ज़ क़ालीनों और नफ़ीस व हसीन मसनदों पर तकिए लगाए (बैठे) होंगे (76) फिर तुम अपने परवरदिगार की किन किन नेअमतों से इन्कार करोगे (77) (ऐ रसूल) तुम्हारा परवरदिगार जो साहिबे जलाल व करामत है उसी का नाम बड़ा बाबरकत है (78)
Groups:


            Bilal 's Details
Status: Single
Here for: Friends,
Orientation: No Answer
Body Type: No Answer
Smoke / Drink: No/No
Education: College graduate
Religion: Islam
Height: 0"0'


       Recent visitors to Bilal 's profile - Viewed 41 times
 No Picture

Bilal is in your extended network.


Bilal 's Latest Blog Entry [Subscribe to members Blog]

No blogs entered by user yet.

    Bilal 's Blurbs
About me:

بِسْمِ اللَّهِ الرَّحْمَنِ الرَّحِيم bi-smi llāhi r-raḥmāni r-raḥīm In the name of God, the Most Gracious, the Most Merciful شُروع اَللہ کے پاک نام سے جو بڑا مہر بان نہايت رحم والا ہے ۔ "बिस्मिल्ला-हिर्रहमा-निर्रहीम" "शुरू करता हूं अल्लाह के नाम से जो बड़ा मेहरबान निहायत रहम वाला है"। ____________________________ لَا إِلٰهَ إِلَّا ٱلله مُحَمَّدٌ رَسُولُ ٱلله 'lā ilāha illā -llāh, muḥammadur rasūlu -llāh There is no god but Allah, [and] Muhammad is the messenger of Allah ला इलाहा इलल्लाहु मुहम्मदुर्रसूलुल्लाहि तर्जुमा: अल्लाह के सिवा कोई माबूद नहीं और हज़रत मुहम्मद सलल्लाहो अलैहि वसल्लम अल्लाह के नेक बन्दे और आखिरी रसूल है. ____________________________ *Durood-e-Ibrahimi* اللَّهُمَّ صَلِّ عَلَى مُحَمَّدٍ وَعَلَى آلِ مُحَمَّدٍ كَمَا صَلَّيْتَ عَلَى إِبْرَاهِيمَ وَعَلَى آلِ إِبْرَاهِيمَ إِنَّكَ حَمِيدٌ مَجِيدٌ اللَّهُمَّ بَارِكْ عَلَى مُحَمَّدٍ، وَعَلَى آلِ مُحَمَّدٍ كَمَا بَارَكْتَ عَلَى إِبْرَاهِيمَ وَعَلَى آلِ إِبْرَاهِيمَ إِنَّكَ حَمِيدٌ مَجِيدٌ अल्लाहुम्मा सल्लि अला मुहम्मदिन व अला आलि मुहम्मदिन कमा सल्लैता अला इब्राहीम व अला आलि इब्राहीम इन्नक हमीदुम मजीद, अल्लाहुम्म बारिक अला मुहम्मदिन व अला आलि मुहम्मदिन कमा बारक्ता अला इब्राहीम व अला आलि इब्राहीम इन्नक हमीदुम मजीद। ____________________________ السَّلَامُ عَلَيْكُمْ As-salāmu ʿalaykum अस्सलामु अलैकुम - ḅŀŀ ḧṃď बिलाल अहमद - ☪ بلال احمد From New Delhi, India
Who I'd like to meet:


       Bilal 's Friend
Bilal has 1 friends.
View All of Bilal 's Friends


       MyMuslimPage Friends:
DadKayga.com - Hooyo aa kuu baahan

    Bilal 's Friends Comments
Displaying 0 of 0 comments (View All Comments)
Add Comment

Rate Photos| Popular| Bookmarks | Terms Of Service | Privacy Policy| Help Us| Contact | Advertise | About Us

Sponsored By Facebook4Muslims.com